एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है? | What is Affiliate Marketing in hindi

318
5/5 - (35 votes)

Affiliate Marketing क्या है, एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है? और इससे पैसे कैसे कमाए को ले कर आपके मन में सवाल होंगे। आज हम एफिलिएट मार्केटिंग के बारे डिटेल से जानेंगे।

हम जैसे जैसे इंटरनेट को जानते जाते है तो हमें इस पर बहुत से बिजनेस के आईडिया मिलने लगते है| जिसमे से एक एफिलिएट मार्केटिंग ही है| अगर आप ख़ोज रहे है, What is Affiliate Marketing in hindi, Affiliate मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए (How to earn from affiliate marketing in hindi) तो पूरा पढ़े। अगर हमारी हेल्प की जरूरत होगी तो हम अपना नंबर भी देंगे।

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है – What is Affiliate Marketing in Hindi

Table of Contents

एफिलिएट मार्केटिंग क्या है? (What is Affiliate Marketing in hindi)

एफिलिएट मार्केटिंग यानि कमीशन पर किसी प्रोडक्ट या सर्विस को बेचना| अब इसके अलग अलग तरिके हो सकते है। जैसे ऑनलाइन और ऑफलाइन| मझे लगता है। मैं आपको online affiliate marketing सिखाने वाला हूँ| आपको एफिलिएट मार्केटिंग क्या है| इसका आपको पता लग गया होगा अगर नहीं समझ आया है तो मैं आपको इसका एक उदारहण देता हूँ| जिसे आप जल्दी समझ जाओगे|

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे काम करती है? (Examples of affiliate marketing in hindi)

जैसे मैं वेबसाइट seo और वर्डप्रेस वेबसाइट बनाने का काम करता हूँ| और मैं आपको कहु की आप मेरे लिए कोई कस्टमर खोज कर लावो जो वेबसाइट बनवाए या अपनी साइट का seo करवाए| आप मेरे लिए कोई एक कस्टमर खोज लेते है और वो मुझे अपनी साइट का seo करवता है| जब वो मुझे अपने काम के लिए पे कर देता है। तो में आपको एक कस्टमर खोज कर लाने के लिए कुछ पैसे देता हु। यानि आपको आपके काम का कमिशन देता हु|

अब इसमें आपको कुछ नहीं करना पड़ा आपने सिर्फ उस व्यक्ति को खोजा जिसने वेबसाइट बनवानी थी और उसको आपने मेरे पास भेजा जिसका आपको कमीशन मिला| हम इसे ऐसे भी समझ सकते है जैसे कोई LIC का एजेंट हो, और वह आपको LIC की एक पॉलिसी ख़रीदने को बोले। अगर आप उस से कोई भी पॉलिसी खरीद लेते है तो उसे उसका कुछ प्रतिशत कमीशन मिलेगा। यही सेम काम ऑनलाइन एफिलिएट मार्केटिंग में करते है।

मुझे उम्मीद है आपको affiliate marketing kya hai अब अच्छे से समझ आ गई होगी| अब ऑनलाइन एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है, इसे हम कैसे कर सकते है, पेमेंट कैसे मिलेगी, इसे करने के लिए हमे किस किस चीज की जरूरत पड़ेगी| क्या एफिलिएट मार्केटिंग सिखने के लिए ऑनलाइन कोई कोर्स करने की जरूरत है। उन सभी के बारे में जानकारी आपको मिलेंगी।

दोस्त online affiliate marketing के बारे में इसलिए बता रहा ह क्युकी यह आसान है। इसे हर कोई कर सकता है यह पार्ट टाइम वर्क की तरह है| जिसे आप जब चाहें कर सकते है| इसमें बहुत अधिक कमाई होती है अगर आपको इसकी कुछ ट्रिक्स का पता चल जाए तो आप इससे एक दिन में ही बहुत अधिक कमाई कर सकते है|

आइए पहले हमे ऑनलाइन एफिलिएट मार्केटिंग करने के लिए किन किन चीजों की जरूरत पड़ेगी। उसकी जानकरी होनी चाहिए तभी तो हम इसे कर सकते है| लेकिन उससे पहले मैं आपको online affiliate marketing kaise kam करती है  उसके बारे में बता देता हूँ| ताकि आपको यह और अच्छे से समझ आ जाए| आइए देखते है ऑनलाइन एफिलिएट मार्केटिंग का उदाहरण।

एफिलिएट मार्केटिंग का उदाहरण क्या है?

Online affiliate marketing में आप किसी वेबसाइट के साथ काम करते है। जिसके आपको प्रोडक्ट को बिकवाना होगा| जिसमे आपको कमीशन मिलता| इसमें आपको वेबसाइट से किसी प्रोडक्ट के लिंक को शेयर करना होता है या उस प्रोडक्ट के कोड को कॉपी कर अपनी साइट में लगना होता है| जहां से आपके द्वारा शेयर किए गए लिंक से कोई व्यक्ति क्लिक कर उस प्रोडक्ट को खरीद लेता है तो आपको उसका कमीशन आपको दे दिया जाता है|

जैसे अगर आप अमेज़न एफिलिएट मार्केटिंग को करते है। और अमेज़न से आपने किसी फ़ोन को प्रमोट करना शुरू कर दिया है। अपने फेसबुक अकाउंट के द्वारा। आपने उस फ़ोन के लिंक को अपने फेसबुक पर पोस्ट करना है। जब भी कोई आपका दोस्त उस लिंक से उस फ़ोन को या किसी दूसरे प्रोडक्ट को 24 घंटे के भीतर ख़रीद लेता है। तो आपको उसका कमिशन मिलता हैं।

जब ऑनलाइन एफिलिएट मार्केटिंग करते है कुछ चीजें चाहिए होती है और कुछ बातें होनी चाहिए। तो अभी उनके बारे में जानेंगे।

Affiliate Marketing करने के लिए जरूरी चीजे

सबसे पहले वो स्थान या वो प्लेटफॉर्म जहा आप एफिलिएट मार्केटिंग करेंगे| जैसे आपके पास फेसबुक पेज, इंस्टाग्राम पेज, यूट्यूब चैनल, ब्लॉग, ईमेल लिस्ट, होनी जरूरी है। क्युकि ऑनलाइन में एफिलिएट मार्केटिंग करने पास बहुत सरे ऐसे लोग होने जरूरी है जो आपकी बातों को फॉलो करते हो। और आपके कहने पर उस प्रोडक्ट को ख़रीदे जिसे आप प्रमोट कर रहे है।

  • उसके बाद आपके पास एकअच्छा नेटवर्क होना जरूरी है। जिस पर से आप एफिलिएट मार्केटिंग करके कमिशन कमाने वाले।
  • आपके पास एक बैंक अकॉउंट , paypal अकाउंट, एक id प्रूफ, पैन कार्ड होना चाहिए।
  • आपके पास फेसबुक पेज, इंस्टाग्राम पेज, यूट्यूब चैनल, ब्लॉग, ईमेल लिस्ट में से कोई भी एक ऑडियंस बेश होना चाहिए। जिन्हें आप एफिलिएट प्रोडक्ट बेचने वाले है।

Affiliate Marketing से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण परिभाषाएँ

एफिलिएट मार्केटिंग से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण परिभाषाएँ जिन्हें आपको अभी जान लेना चाहिए। क्योकि ये ऐसे शब्द होंगे जो आपको इस फिल्ड में बार बार देखने को मिलेंगे। अगर इनका आपको पता होगा तो आपको एफिलिएट मार्केटिंग करने में आसानी होगी। उस प्लेटफॉर्म को समझने में आसानी होगी जिसके साथ आप काम करने वाले है।

  • Affiliates: एफिलिएट वो लोग होते हैं, जो एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करके प्रोडक्ट की मार्केटिंग करते है। जैसे आप अगर अमेज़न से एफिलिएट मार्केटिंग करना शुरू करते है तो आप अमॉज़न के affiliates में शामिल हो जाते है।
  • Merchant: मर्चेंट आम तोर पर एफिलिएट प्रोग्राम का मालिक होता है। या कह सकते है की आप जिस प्रोड्कट को प्रमोट करते है वह उसका मालिक होता है यानि मालिक ही Merchant होता है।
  • Affiliate Marketplace:  ऐसी कम्पनियाँ है जो अलग-अलग कैटगोरी में Affiliate Programs offer करती हैं, उन्हें Affiliate Marketplace बोला जाता है। जैसे अमेज़न पर बहुत सारि कैटेगरी आपको देखने को मिलेंगी।
  • Affiliate ID: सभी एफिलिएट मार्केटर को एक Affiliate ID मिलती है जो सभी की अलग अलग होती है। Affiliate ID के द्वारा सेल होने वाले प्रोडक्ट को ट्रेक किया जाता है की सेल किस एफिलिएट मार्केटर ने करवाई है। सभी को एक  unique ID मिलती है। आपको भी अलग से एक यूनिक आईडी मिलेंगी।
  • Affiliate link: उस प्रोडक्ट का लिंक जिसे आप प्रमोट करते है। इस लिंक में आपकी Affiliate ID ऐड होती है। अगर आपके लिंक क्लिक करके प्रोडक्ट को खरीद लेता है तो आपको कमीशन मिलता है।
  • Customer/Buyer: ये वो लोग होंगे जिन्हे आप अपना एफिलिएट प्रोडक्ट प्रमोट करते हैं। और वो आपके कहने पर उसे ख़रीद लेते हैं।
  • Commission: अगर आपके लिंक पर कोई सिर्फ क्लिक करता है। तो आपको कोई कमीशन नहीं मिलता। लेकिन अगर आपके लिंक से क्लिक करके वह उस प्रोडक्ट को खरीद लेता है। तो आपका आपका पूरा कमिसन मिल जाता है।
  • Link Clocking: एफिलिएट लिंक देखने में बहुत ही अजीब से दीखते है और बहुत लम्बे भी होते है। इन एफिलिएट लिंक करके ही हम यूज करते है। इन एफिलिएट लिंक को शार्ट करना ही Link Clocking कहलाता है।
  • Affiliate Manager: अभी एफिलिएट प्रोग्राम में एक affiliate manager होता है। जो affiliates के सवालों जवाब देता है। यहीं affiliate manager आपको अपने एफिलिएट प्रोग्राम के लिए अप्रूवल देगा।
  • Payment Mode: सभी एफिलिएट प्रोग्राम अलग अलग Payment Mode होते है। बहुत से एफिलिएट प्रोग्राम आपको आपका कमिशन बैंक में भेज देते हैं। कुछ आपको paypal में भेजते है। और कुछ चेक द्वारा आपको पेमेंट करते है। इसलिए आपके पास paypal और बैंक अकाउंट होना जरूरी हैं।
  • Payment Threshold: एफिलिएट मार्केटिंग में आपको कुछ मिनिमम सेल करनी होती है। जैसे अमेज़न में आपको अपने कमिसन को लेने केलिए कम से कम 1500 रूपये की सेल करवानी होगी। जब तक आपके 1500 रूपये नहीं होते है। तब तक आप Payment Threshold पर ही रहेगा। यानि आपको पेमेंट नहीं मिलेगा।
  • Affiliate Network: Affiliate Network वे वेबसाइट होती है। जहाँ पर आपको बहुत सारी कम्पनियों के एफिलिएट प्रोग्राम मिल जाते है। और आप उन सभी को उस Affiliate Network की मदद से ज्वाइन करते है।
एफिलिएट मार्केटिंग क्या है | What is Affiliate Marketing in hindi

Affiliate मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए? – (How to earn from affiliate marketing in hindi)

affiliate marketing एक बहुत ही अच्छा बिजनेस आईडिया है। इस से पैसे कमाने के लिए आपको कुछ स्टेप को फॉलो करना होगा।

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है?:

Step 1: सबसे पहले एक best टॉपिक चुनें जिसमें आप एफिलिएट मार्केटिंग करना चाहते है। जैसे हेल्थ

Step 2: अपने पसंदिदा एफिलिएट प्रोग्राम को join करें। जैसे Amazon, फ्लिपकार्ट, more…

Step 3: अपनी प्रोफाइल में setting करें। जैसे यूजर नाम,पेमेंट मोड, कॉन्टेक्ट डिटेल, इत्यादि अच्छे से ऐड करें।

Step 4: अपना प्रोडक्ट Select करें।

Step 5: अपना Affiliate Link Create करें।

Step 6: अब अपने ब्लॉग, फेसबुक, ट्विटर पर जाए और उस प्रोडक्ट के बारे में जानकारी लिखें साथ में उसका लिंक ऐड करें। और पोस्ट करें।

Affiliate मार्केटिंग से पैसे कैसे कमाए (How to earn from affiliate marketing in hindi)

अब जब भी कोई आपके लिंक से उस प्रोडक्ट को ख़रीद लेता है। तो आपको उसका कमिशन मिलता है। इसे और बहतर तरके से कैसे करना होता है। उसे समझने के लिए और जानने के लिए पढ़े रहे। इस पूरी गाइड भी अगर आपको मेरी हेल्प की जरूरत होगी तो आप मुझे व्हाट्सप्प मसेज कर लेना। 9499136312 मेरा नंबर है।

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है? – How to start affiliate marketing in hindi

दोस्त अगर online affiliate marketing करनी है, तो आपको इसे पहले अच्छे से समझना होगा की यह किस किस तरह काम करती है| अगर आप ने ऊपर वाले पहराग्राफ को ध्यानपूर्वक पढ़ा होगा, तो आप आप इसे समझ चुके होंगे| अब अगर आप इसे कमाई करना चाहते है. और जानना चाहते है एफिलिएट मार्केटिंग कैसे करते हैं? तो आगे पूरा पढ़े आपको मैं वो सभी तरिके बता रहा हुँ जिन से एफिलिएट मार्केटिंग की जा सकती हैं।

1. Websites से शुरू करें एफिलिएट मार्केटिंग

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है? - How to start affiliate marketing in hindi : Websites से शुरू करें एफिलिएट मार्केटिंग

दोस्त जो सबसे पहला तरीका है वह है एक वेबसाइट की मदद से एफिलिएट मार्केटिंग करना। चलिए इसके बारे में hindi में जानते है| आप एक वेबसाइट की मदद से affiliate marketing कर सकते है। इसमें आपको जिस भी कंपनी के affiliate program को ज्वाइन करते है| उसके प्रोडक्ट के लिंक को यहां लगा कर कमाई कर सकते है| जब कोई भी बंदा आपकी साइट पर आता उस प्रोडक्ट को देख कर उसे वह खरीद लेता है तो आपको उसका कमीशन मिल जाता है|

वह आपके लिंक से उस प्रोडक्ट को या किसी दूसरे प्रोडक्ट को खरीदेगा। आपको उतनी बार कमीशन मिलेगा |  वेबसाइट पर एफिलिएट मार्केटिंग करना फायदे मदद रहेगा| अगर आपकी वेबसाइट एक बार वायरल हो जाती है तो आप एक दिन में ही लाखों रूपये कमा सकते है|

इसके लिए आपकी साइट पर ट्राफिक आना जरूरी है जीतने विजिटर आपकी साइट पर आएगे उतना आपकी कमाई के बढ़ेगी| अब यह जरूरी नहीं है की हर कोई आने वाला आपकी साइट से ही किसी प्रोडक्ट को खरीदेगा| क्युकी क्या पता वह सिर्फ उसे देख कर ही छोड़ दे या वह किसी और के लिए देख रहा हो और उसे सिर्फ उसकी जानकरी दे रहा हो |

इसके कई सारे कारण हो सकते है तो मेरा कहने का सिर्फ एक ही मतलब है की जितने लोग आपकी साइट पर आएंगे उतना ही आपकी कमाई के चांस अधिक हो जाते है| एक बात और मैं आपको बता देता हु वेबसाइट बनाकर एफिलिएट मार्केटिंग करना आपके लिए खर्चीला भी रहेगा। एक एफिलिएट मार्केटिंग वेबसाइट बनाने कम से कम 4 हज़ार रूपये तक ख़र्च करने होंगे। लेकिन कमाई आप लाखों सकते हैं एक वेबसाइट की मदद से एफिलिएट मार्केटिंग में।

2. Youtube Channel बना कर एफिलिएट मार्केटिंग करें

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है?- How to start affiliate marketing in hindi : youtube Channel बना कर एफिलिएट मार्केटिंग करें

दोस्त दूसरा सबसे अधिक प्रचलन में है youtube चैनल की मदद से affiliate marketing करना| आज लाखो लोग इसी की मदद से महीने का लाखो रुपया कमा रहे है| आप अपनी यूट्यूब पर वीडियो बना सकते है और affiliate marketing करे आपक वीडियो hindi में बना सकते है|

अगर आप एक यूट्यूब चैनल बनाकर इस कार्य को करते है तो आप बहुत जल्दी कमाई करना शुरू कर सकते है इसमें आपने जिस भी कम्पनी के affiliate program को ज्वाइन किया है| उसके लिंक को आप अपनी वीडियो के डिस्क्रिप्सटिव में लगा दो और लोगो को बोलो की इस पर क्लिक करे, वो इस प्रोडक्ट को खरीदे जितने भी लोग आपकी उस लिंक से उस प्रोडक्ट को खिदते है आपको उन सब के द्वारा खरीदे गए प्रोडक्ट का आपको कमीशन मिलेगा|  

यूट्यूब चैनल में आपको शुरू में बहुत अधिक महंत करनी पड़ेगी क्युकी आपको आपके चैनल पर अधिक से अधिक सब्स्क्राइबर को लाना होगा जो की बहुत मुश्किल तो नहीं लेकिन आसान भी नहीं है| यह उन लोगो के लिए मुश्किल नहीं है जिनमे कुछ न कुछ टेलेंट है और उन लोगों के लिए आसान नहीं है जिन्हे दुसरो की वीडियो देखना और आर्टिकल पढ़ना ही अच्छा लगता है|

अगर आपमें हुनर है तो उसे यूट्यूब पर दिखाओ और वहाँ लोगो को अपने एफिलिएट लिंक से प्रोडक्ट खरीदें के लिए बोलो आप ऐसे करके बहुत अच्छी कमाई कर सकते है| अगर आपमें कोई टेलेंट नहीं है तो आप प्रोडक्ट के रिव्यु कर सकते है| और उस प्रोडक्ट के एफिलिएट लिंक से आप कमाई कर सकते है| लेकिन इसके लिए आपको पहले उस प्रोडक्टको खरीदना होगा यानि आपको पहले कुछ प्रोडक्ट के रिव्यु करने है तो आपको उन्हें खरीदना होगा और उनके रिव्यु करने होंगे|

फिर आपको अपनी वीडियो को लोगो तक पहुचानी होगी| अगर लोगो को वह प्रोडक्ट अच्छा लगता है तो वह आपके लिंक से उसे जरूर खरीदेंगे और आपको उसका कमीशन भी मिलेगा| हमें  कमेंट बॉक्स में जरूर बताए आपको हमारा यह आर्टिकल What is Affiliate Marketing in hindi कैसा लगा है|

3. Social मीडया की मदद से एफिलिएट मार्केटिंग करें|

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है? - How to start affiliate marketing in hindi : Social मीडया की मदद से एफिलिएट मार्केटिंग करें|

दोस्त अगर आपके सोशल मिडिया पर बहुत फ्रेंड्स है तो आप यह भी अपने एफ्लीएट मार्केटिंग कर सकते है| सोशल मीडिया में आपके फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सप्प जैसे प्लेटफार्म शामिल है अगर आप कोई और भी प्रयोग करते है तो आप वहा भी अपने प्रोडक्ट का लिंक शेयर कर कमाई कर सकते है|  

यह आप आपके दोस्त रिस्तेदारो को बोल सकते है की वो आपके लिंक से किसी प्रोडक्ट को खरीदे| यहां आपको एक बात का ध्यान रखना होगा आप सोशल मिडिया पर अधिक लिंक न शेयर कर इसे आपके अकॉउंट को बंद भी किया जा सकता है| क्युकी फेसबुक , व्हाट्सप्प जैसे सभी प्लेटफार्म बिजनेस की लिंक को स्पेम मानते है। इसलिए आप इस बात का ध्यान रखे की आप दिन में सिर्फ 2 या 3 ही लिंक शेयर करे|  

ये कुछ ऐसे प्लेटफार्म है या वो स्थान है जहा आप एफिलिएट मार्केटिंग कर सकते है| और भी बहुत से जरिये है जिन की मदद से आप एफिलिएट मार्केटिंग कर सकते है| अगर आपको उनके बारे में जानना है तो आप हमारे इस Affiliate Marketing Kaise Kare in Hindi आर्टिकल को जरुर पढ़े| इनमे आपको बहुत अच्छी कमाई हो सकती है अगर आप इसे अच्छे से करते है|

इनमे से आप किसी भी प्लेटफॉर्म का उपयोग कर सकते है कुछ तो फ्री है कुछ में आपको खर्चा करना ही पड़ेगा| जैसे अगर आप वेबसाइट पर यह काम करते है तो आपको Hosting और Domain की जरूरत पड़ेगी| और टाइम तो आपको लगाना ही पड़ेगा| एक दिन में ही आप अच्छी कमाई कर सकते है अगर आपका को अच्छे से प्लान करके करते है।

Hosting के साथ Free Domain

Affiliate Marketing के sites को join कैसे करें?

अब अगर आपको एफिलिएट मार्केटिंग करनी है तो सबसे पहले आपको एक प्लेटफॉर्म को चुनना होगा जहाँ से आप एफिलिएट मार्केटिंग शुरू करेंगे। उसके बाद आपको एक Affiliate Marketing के sites को join करना होगा। जैसे आप Amazon affiliate program को ज्वाइन कर सकते है। आइए देखें आप कैसे Amazon affiliate program को join करेंगे।

Amazon affiliate program को join कैसे करें ?

Amazon affiliate program में आपको ज्वाइन करने के लिए कुछ चीजों की जरूरत है। उनकी जानकरी आपको हम देंगे| साथ में आपको अन्य महत्वपूर्ण जानकरी भी आपको देंगे जो आपके लिए जरूरी है| मुझे उम्मीद है आपको हमारा यह आर्टिकल what is affiliate marketing in hindi अच्छा लग रहा है|

Amazon Affiliate Program में ज्वाइन होने के लिए महत्वपूर्ण जानकरी:

  • Email ID: एक्टिव मोबाइल नंबर, पैन कार्ड, bank जानकरी, वेबसाइट यूआरएल, आपका पूरा पता ये चीजें आपके पास होनी जरूरी है|
  • Mobile: मोबाइल नंबर आपके पास otp वेरिफिकेशन के लिए होना चाहिए|
  • पैन कार्ड:यह अगर आपके पास नहीं है तो बहुत बड़ी समस्या है आपके लिए आपको बहुत अधिक टैक्स देना पड़ेगा अगर यह आपके पास नहीं है | तो आप इसे जरूर बनवा ले| या फिर आप अपने परिवार के किसी सदस्य नाम से अकाउंट बनाए जिसके पास पैन कार्ड हो|
  • Email ID: एक्टिव मोबाइल नंबर, पैन कार्ड, bank जानकरी, वेबसाइट यूआरएल, आपका पूरा पता ये चीजें आपके पास होनी जरूरी है|
  • Mobile: मोबाइल नंबर आपके पास otp वेरिफिकेशन के लिए होना चाहिए|
  • पैन कार्ड:यह अगर आपके पास नहीं है तो बहुत बड़ी समस्या है आपके लिए आपको बहुत अधिक टैक्स देना पड़ेगा अगर यह आपके पास नहीं है | तो आप इसे जरूर बनवा ले| या फिर आप अपने परिवार के किसी सदस्य नाम से अकाउंट बनाए जिसके पास पैन कार्ड हो|
  • Address: दोस्त ये जरूरी तो नहीं होता लेकिन अगर आपने उसमे गलत पता डाल दिया है कुछ भी तो आप उसे वेरिफाई नहीं कर पावोगेइसलिए आपको मै एक सुझाव देता हु आप सही जानकरी अपनी बरे|  
  • Bank Ditails: दोस्त बैंक जानकरी उसी की देना जिसके नाम पर आप अकाउंट बनाते है और आपके पास उस नाम का पैन कार्ड भी है |
  • Website URL: अगर आपके पास वेबसाइट यूआरएल है यानि आपके पास आपकी कोई वेबसाइट है तो आप उसका लिंक दे अगर अगर नहीं है तो आप अपनी फसबूक प्रोफइल का लिंक दे सकते है|

ऐमज़ॉन अभी तक बिना प्रोफाइल देखे सभी एफिलिएटर को अप्रूवल दे रहा है इसमें आपके पास अगर साइट नहीं है तो आप अपने फेसबुक और इंस्टाग्राम प्रोफाइल का लिंक दे सकते है| Amazon affiliate program में ज्वाइन होने के लिए यही चीजों की जरूरत पड़ेगी आपको पहले अपनी सारी जानकारी को भरना है|

उसके बाद आपको अपने टैक्स को कम करने के लिए अपने पैन कार्ड के फोटो को लेकर टैक्स इनफार्मेशन वाले पेज में जानकर फॉर्म को भरना है जब आपका अकाउंट पूरी तरह से देख लिया जगा तो आपको ईमेल की मदद से बता दिया जगा| इसमे आपको सिर्फ इतना ही करना है और आपका एफिलिएट अकाउंट बनकर तैयार हो जगा|   जब आप यह सभी जानकरी को अच्छे से भर लेते है तो कंपनी आपकी प्रोफाइल को देखेगी|

उसके बाद आपको आपकी ईमेल पर एक वरिफिकेशन लिंक सैंड करेगी उस पर आपको क्लिक करना है और अपने अकाउंट में लोग इन कर लेना है| यह आपको आपको आपकी जरूरत के सभी कंट्रोल मिलेंगे जैसे किसी प्रोडक्ट के लिंक बनाने है या किसी लिंक पर कितने क्लिक हुवे कितने प्रोडक्ट आपके लिंक से खरीदे गए|

सभी जानकरी आपको मिलेगी आपको किस प्रोडक्ट के लिए कितना कमीशन मिलेगा उसकी जानकरी भी आपको मिलेगी|  तो दोस्त ये सारा परोसे होता है एक एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करने का अगर आप काम करना चाहते है तो आप इसे जरूर ज्वाइन करे| अब कुछ अन्य जानकरी जो आपको जरूरी पता होनी चाहिए अगर आप इसके बारे में और अधिक जाना चाहते है तो|

Affiliate Program कंपनी हमें किस किस आधार पर पैसा देती है|

Affiliate marketing में आपको किस किस आदर पर पैसा मिलता है hindi में इसकी जानकरी आपको देंगे| इसको समझना आपके लिए बहुत जरूरी है| आपको इन्हें जरूर जानना चाहिए कोन सी कंपनी किस किस आधार पर पैसा देगी| इसमें आपको तीन तरह से पैसा लेकिन यह आपको सुविधा आपको एक ही कंपनी में मिले ऐसा बहुत मुश्किल है|

जैसे हमे एफिलिएट प्रोग्राम कंपनी CPM, CPC, CPS के आधार पर पैसेआइए एक एक के करके बारे में अच्छेहै :

  • CPM:- दोस्त सीपीएम का मतलब होता है कास्ट पर 1000इम्प्रैशन| यानि आप ने किसी प्रोडक्ट के बैनर को अपनी साइट में लगाया और उसे अगर 1000 लोग देखते है तो आपको उसका पैसा मिलेगा| लेकिन एफिलिएट में ऐसा बहुत कम होता है आपको प्रोडक्ट के इम्प्रैशन का कोई पैसा नहीं मिलता आपको सिर्फ और सिर्फ प्रोडक्ट बिकने का पैसा मिलता है|  
  • CPC:- दोस्त CPC का मतलब होता है कॉस्ट पर क्लिक| यानि आपने कोई प्रोडक्ट का बैनर लगाया और उस पर जितने भी क्लिक होते है आपको उसका पैसा मिलता है| इसमें आपको बहुत छोटी सी अमाउंट मिलती है लेकिन यह किसी देश के पैसे की वलु डॉलर के मुकाबले कितनी कम या अधिक है आपको उसके हिसाब से पैसा मिलेगा| इसमें आपको सभी कंपनी तो यह सुविधा नहीं देती कुछ है जो आपको ऐसी सुविधा जिसमे हमारा ऐमज़ॉन एफिलिएट प्रोग्राम शामिल है|  
  • CPS:- दोस्त इसका मतलब है कॉस्ट पर सेल्ल| यह आपको जरूर कमीशन देता है अगर आपके बैनर लिंक से कोई भी बंदा कोई भी प्रोडक्ट या वह प्रोडक्ट खरीद लेता है तो आपको उसका कमीशन मिलेगा| कमीशन रेट को एफिलिएट कंपनी तय करती है की वह आपको कितने परसेंट कमीशन देगी| मान लो अगर कंपनी ने किसी प्रोडक्ट पर 12% का कमीशन देने की पॉलिसी बना रखी है| तो आपको आपको उस प्रोडक्ट का 12% दिया जाएगा यानि किसी प्रोडक्ट का अगर प्राइस 1000 रूपये है तो आपको उसकी एक यूनिट सेल्ल पर 120 रूपये मिलेंगे अगर कोई सिंगल बंदा उसकी 2 यूनिट खरीदता है तो आपको 240 रूपये कंपनी की तरफ से दिए जाएगे| और सभी एफिलिएट प्रोग्राम में इसी सिस्टम पर काम अधिक करते है।

एफिलिएट मार्केटिंग से जुड़े अन्य सवाल (FaQ)

आपके मन में Affiliate Marketing को लेकर FaQ जरूर होंगे। अगर कोई सवाल रह जाता हैं। जिसका आपको जवाब चाहिए है तो कमेंट करके पूछें।

अमेज़न एफिलिएट क्या है?

Amazon Affiliate Program Online कंटेंट क्रिएटर के लिए अपने ऑडियंस की मदद से ब्लॉग और यूट्यूब चैनल सोशल मिडीया अकाउंट को मुंद्रित करने का एक साधन है। जिसकी मदद से वह ऑनलाइन पैसे कमा पाते है।

डिजिटल मार्केटिंग में एफिलिएट मार्केटिंग क्या है?

Digital marketing की मदद से जिसमे हमारी गूगल फेसबुक और बिंग इंस्टाग्राम और याहू इत्यादि पेड एड्स, seo, ईमेल और sms बॉम्बिंग इत्यादि मार्केटिंग के जरिये शामिल है। इनकी मदद से हम ऐसे प्रोडक्ट और सर्विक्स को सेल करें जिनके सेल्ल होने पर हमे कमिशन मिलता हो। वो ही डिजिटल मार्केटिंग में एफिलिएट मार्केटिंग कहलाता है।

एफिलिएट मार्केटिंग कैसे होती है?

एफिलिएट मार्केटिंग करने के आपको 10 से भी अधिक तरिके मिलेंगेब्लॉग (लैंडिंग पेज) ईमेल मार्केटिंग यूट्यूब सोशल पेज (इंस्टाग्राम फेसबुक ट्वविटर इत्यादि) गूगल फेसबुक और बिंग इंस्टाग्राम और याहू इत्यादि पेड एड्स, के साथ ब्लॉग और लैंडिंग पेज पर ट्रैफिक को भेजना। ये वो तरिके है जिनकी मदद से एफिलिएट मार्केटिंग होती है

Amazon Affiliate Program और adsense को क्या हम एक साथ उपयोग कर सकते है|

अगर आपके पास कोई वेबसाइट है और आप उस पर गूगल के adsense का उपयोग करते है तो और आप चाहते है की ऐमज़ॉन के एफिलिएट प्रोग्राम का उपयोग भी करना तो आप कर सकते है| इसमें आपको किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी गूगल ने अपनी टर्म कंडीशन में इसे लीगल माना है| तो आपको इसे जरूर उपयोग करना चाहिए|

क्या एफिलिएट मार्केटिंग करने के लिए वेबसाइट होना जरूरी है?

एफिलिएट मार्केटिंग करने के वेबसाइट की जरूरत नहीं होती। लेकिन एक प्रोफेसनलएफिलिएट बनने के लिए आपको वेबसाइट बनाना ही चाहिए। इस एफिलिएट मार्केटिंग बढ़ेगी।

क्या सभी कंपनी एफिलिएट प्रोग्राम को रखती है|

अभी तक 70% कंपनी ऐसी है जो एफिलिएट प्रोग्राम ऑफर करती है| कुछ नई कंपनी जो लोच होती है तो वो भी ऐसी सुविधा देने की सोच रही है लेकिन जो नामी कंपनी है उन्होंने यह सुविधा पहले से ही लोच कर रखी है| अगर आपकी नजर में कोई कंपनी है जिसके साथ आप काम करना चाहते है एफिलिएट की मदद से तो आप उनसे कांटेक्ट कर पूछ सकते है वह आपको अच्छे से जानकरी देंगे| उनसे सम्पर्क करने के लिए आप उन्हें ईमेल कर सकते है या आप उन्हें फेसबुक पेज पर भी सम्पर्क कर सकते है जहा आपको जल्दी आपके सवाल का जवाब मिलने की संभावना होती है|

क्या एफिलिएट मार्केटिंग प्रोग्रम ज्वाइन करने की कोई फ़ीस लगती है?  

अभी तक कोई भी एफिलिएट प्रोग्रम मुझे ऐसा नहीं मिला है जो ज्वाइन होने के लिए हमसे फ़ीस ले लेकिन अगर आपको ऐसा कोई प्रोग्राम मिलता है| ऐसी कोई कंपनी मिली है जो ज्वाइन होने की फ़ीस ले रही है तो आप उसके साथ भूल कर भी ज्वाइन मत करना क्युकी वह फ्रॉड भी हो सकते है|

पेमेंट से जुड़ी समस्या के लिए क्या करना चाहिए|

अगर आपकी पेमेंट सेजुड़ी कोई समस्या होती है तो आपको तुरंत कम्पनी से सम्पर्क करना चाहिए उन्हें आप ईमेल करें, या आप उन्हें कॉल भी करे अगर आपको उनका नंबर कहि से मिल जाता है तो| फिर भी उसके बाद आपको कुछ जानकरी मिल जाएगी और आपको क्या करना है उसके बारे में भी आपको वो बता देंगे|

 एफिलिएट मार्केटिंग करने के लिए कौन सा कोर्स करना पड़ेगा|

Affiliate Marketing करने के लिए कोर्स उन लोगों को जरूर करना चाहिए। जिनके पास कोई ऑडियंस बेश नहीं है। यानि जिनके पास एफिलिएट प्रोडक्ट को प्रमोट करने के लिए वो लोग नहीं है जिन्हें वो उस प्रोडक्ट को बेच सकें। कोर्स में आपको बहुत सारी ट्रिक और तरीके सिखने मिलेंगे। जैसे वेबसाइट बनाकर कैसे एफिलिएट मार्केटिंग की जाती है प्रॉपर गाइड आप मुझ से ले सकते है। 9499136312 पर मसेज करके।

एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करते समय हमें किन बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए|  

जब हम किसी भी एफिलिएट प्रोग्राम को ज्वाइन करें तो हमे कुछ बातो को ध्यान में जरूर रखना चाहिए| जैसे वो हमे कस्टमर हेल्प देते है या नहीं, वो कम से कम कितना पेआउट देते है, वे हमे पेमेंट किस किस जरिये से देते है, और हमसे टैक्स कितना लेते है पैन कार्ड के बाद में भी| अगर मान लो हमे पेमेंट नहीं मिल रही है तो आप किसे कॉन्टेक्ट करेंगे अगर आप पहले उसके बारे में नहीं देखते है तो,

दूसरा अगर आपके पास सिर्फ बैंक अकाउंट है पेमेंट लेने के लिए तो और वो डॉलर में पेआउट देते है तो आप उसे कैसे लेंगे, और वो आपसे कितना टेक्स लेते है पैनकार्ड के बाद भी अगर वो आपसे पैन कार्ड लेने के बाद भी अधिक टेक्स लेते है तो उसके साथ बेशक काम ना करें| पैन कार्ड जमा करने के बाद कम से कम हमे 2 से 4 % तक ही टैक्स देना पड़ता है जो की एक बहुत छोटी अमाउंट है। लेकिन अगर हम पैन कार्ड नहीं देते है तो यह 20 से 30 % तक हो सकती है और अगर हमसे पैन कार्ड लेने के बाद भी इंटने प्रतिशत टैक्स लिया जाएगा तो हमसे वो जबन छीन रहे है|  

What is Affiliate Marketing in hindi में आपको हमने बहुत अच्छे से जानकरी देने की कोशिश की हैं| अगर आपका कोई प्रश्न है तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते है | अगर आपको हमारा यह आर्टिकल अच्छा लगा है तो आप इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें|

एक बार फिर से आपसे हम पूछना चाहेंगे आपको हमारा What is Affiliate Marketing in hindi आर्टिकल आपको कैसा लगा है हमें कमेंट करके जरूर बताए| और हमें आपका सुझाव दे’|

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here